'कॉन्टैक्ट अपलोड' फ़ीचर के बारे में जानकारी

यह ऐसा ऑप्शनल फ़ीचर है जिसकी मदद से हम चेक कर पाते हैं कि आपके डिवाइस की एड्रेस बुक में मौजूद कौन से कॉन्टैक्ट्स WhatsApp इस्तेमाल कर रहे हैं. इसका मतलब है कि अगर आपकी एड्रेस बुक में मौजूद कुछ कॉन्टैक्ट्स अभी WhatsApp इस्तेमाल नहीं करते, लेकिन बाद में WhatsApp पर साइन अप करते हैं, तो इस फ़ीचर की मदद से हम उन्हें जल्द से जल्द आपकी WhatsApp कॉन्टैक्ट लिस्ट में जोड़ सकते हैं. आपकी प्राइवेसी हमारे लिए अहम है, इसलिए हम Meta Platforms Inc. या अन्य Meta कंपनियों से आपकी कॉन्टैक्ट लिस्ट शेयर नहीं करते. भले ही ये कंपनियाँ हमें अपनी सर्विसेज़ दे रही हों.
जब आप 'कॉन्टैक्ट अपलोड' फ़ीचर का इस्तेमाल करते हैं और WhatsApp को अपने फ़ोन की एड्रेस बुक ऐक्सेस करने की अनुमति देते हैं, तो WhatsApp हर रोज़ आपकी एड्रेस बुक में मौजूद फ़ोन नंबर अपलोड करता है. इस अपलोड में WhatsApp यूज़र्स के साथ-साथ अन्य कॉन्टैक्ट्स भी शामिल होते हैं. हम आपके फ़ोन की एड्रेस बुक में मौजूद अन्य जानकारी जैसे कि नाम, ईमेल एड्रेस वगैरह इकट्ठा नहीं करते.
अगर आपका कोई कॉन्टैक्ट अब भी WhatsApp इस्तेमाल नहीं करता, तो हम उनकी प्राइवेसी की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए उनका फ़ोन नंबर इस तरह मैनेज करते हैं कि WhatsApp भी उन कॉन्टैक्ट्स को पहचान न सके. ऐसा करने के लिए हम उनके नंबर की क्रिप्टोग्राफ़िक हैश वैल्यू तैयार करते हैं और उनका नंबर मिटा देते हैं. सभी क्रिप्टोग्राफ़िक हैश वैल्यू WhatsApp के सर्वर पर स्टोर होती हैं, जो उन WhatsApp यूज़र्स से लिंक होती हैं जिन्होंने हैश वैल्यू तैयार होने से पहले डिवाइस पर फ़ोन नंबर सेव किए थे. जब ये कॉन्टैक्ट्स WhatsApp इस्तेमाल करना शुरू करते हैं, तो हम हैश वैल्यू की मदद से आपको इन कॉन्टैक्ट्स के साथ और बेहतर तरीके से कनेक्ट कर पाते हैं.
इसके अलावा, हम आपके डिवाइस की एड्रेस बुक में मौजूद फ़ोन नंबर्स की क्रिप्टोग्राफ़िक हैश रिप्रेज़ेंटेशन भी तैयार करते हैं. इसकी मदद से हम 'कॉन्टैक्ट अपलोड' फ़ीचर के गलत इस्तेमाल का पता लगाने और उसे रोकने के लिए उचित कदम उठाते हैं. उदाहरण के लिए, हम हैश वैल्यू का मूल्यांकन यह तय करने के लिए करते हैं कि एड्रेस बुक में किसी तरह के असामान्य बदलाव तो नहीं किए गए. इसमें फ़ोन नंबर्स की ट्रैकिंग या उनकी तुलना करना शामिल नहीं है.
आप 'कॉन्टैक्ट अपलोड' फ़ीचर को अपने फ़ोन की सेटिंग्स से कंट्रोल कर सकते हैं. अगर आप 'कॉन्टैक्ट अपलोड' फ़ीचर इस्तेमाल नहीं करना चाहते, तो भी आप WhatsApp यूज़र्स के साथ चैट कर सकते हैं लेकिन कुछ फ़ीचर्स सीमित रूप से काम करेंगे.
WhatsApp का सही तरीके से इस्तेमाल करने के बारे में ज़्यादा जानने के लिए यह लेख पढ़ें.
क्या यह जानकारी उपयोगी थी?
हाँ
नहीं